रचा इतिहास दमयंती मांझी ने छोटी सी उम्र में - SHUBHNEWS
07/10/2022

SHUBHNEWS

NEWS JO SHUBH HO

Damayanti Manjhi created history

Damayanti Manjhi created history

रचा इतिहास दमयंती मांझी ने छोटी सी उम्र में

Spread the love


दमयंती और उसकी मां ने मेहनत-मज़दूरी कर … उसने डिप्टी मेयर बन इतिहास रच दिया.
ये तो सत्य है कि दमयंती मांझी ने छोटी सी उम्र में जो कुछ ऐसा कर दिखाया है, बस्ती में पली आदिवासी लड़की, मां ने मजदूरी कर पढ़ाया, 21 की उम्र में रचा इतिहास दमयंती मांझी ने छोटी सी उम्र में कुछ ऐसा कर दिखाया है, .पिता के निधन के बाद मां ने मजदूरी कर बेटी …मानव जब जोर लगाता है, पत्थर पानी बन जाता है मेहनत और धैर्य से इंसान हर मकाम हासिल कर सकता है। सच्ची लगन हो, खुद पर भरोसा हो तो कोई भी शख़्स, फ़र्श से अर्श तक पहुंच सकता है।

 


21 की उम्र में रचा इतिहास:-
जिसके बाद उनका नाम इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज हो चुका है। दमयंती ने बीजू जनता दल (बीजेडी) के टिकट पर कटक का नगर निगम चुनाव लड़ा

पहली बार लड़ा चुनाव और जीत गई –
संथाल आदिवासी समुदाय की दमयंती जगतपुर-बलीसाही झुग्गी में रहती है।झुग्गी में पली-बढ़ी दमयंती ने बीते 24 मार्च को हुए चुनाव में जीत हासिल की और कटक की सबसे कम उम्र की डिप्टी मेयर बन गई।

पिता नहीं हैं, मां ने मज़दूरी कर पढ़ाया –
पिता के गुज़रने के बाद परिवार की ज़िम्मेदारी दमयंती और उसकी मां पर आ गई। दमयंती और उसकी मां ने मेहनत-मज़दूरी कर परिवार का पालन-पोषण किया।

 

दमयंती ने अपना घर चलाने के लिए और अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए झुग्गी के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाया।

राजनीति नहीं है पहली चॉइस –
दमयंती अपने क्षेत्र की समस्याओं से परिचित थी और बीजेडी के नेताओं को ये गुण भा गया। दमयंती अब अपने क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाना चाहती है, लोगों की समस्याओं को सुलझाना चाहती है।