#Shubhnews #दिल्ली पुलिस_एएसआई ललिता #5 स्वर्ण पदक #Delhi Police ASI Lalita
07/10/2022

SHUBHNEWS

NEWS JO SHUBH HO

Delhi Police ASI Lalita Madhwal brought 5 gold wins

दिल्ली पुलिस की 45 साल की ASI ललिता का कमाल

दिल्ली पुलिस की एएसआई ललिता ने लाईं 5 स्वर्ण पदक

Spread the love


Delhi Police officer Lalita Madhwal won six medals (five gold and one silver) in track and field events at the World Police and Fire Games, 2022 at Rotterdam in Netherlands. Delhi Police ASI Lalita Madhwal brought 5 gold wins –


5 गोल्ड जीत लाई दिल्ली पुलिस ASIललिता माधवाल
दिल्ली पुलिस की 45 साल की ASI ललिता का कमाल,
कभी बुरे वक्त ने किया था मैदान से दूर, अब 45 की उम्र में 5 गोल्ड जीत
दिल्ली पुलिस की पीटी उषा कही जाने वाली 45 वर्षीय ASI ललिता माधवाल की. ललिता ने …दिल्ली पुलिस की पीटी उषा के नाम से जानी जाने वाली एएसआइ ललिता माधवाल ने जुलाई में आयोजित विश्व पुलिस और फायर गेम्स में पांच स्वर्ण पदक (Gold Medal) और 1 सिल्वर मैडल जीता हैं. ललिता माधवाल ने 2000 मीटर स्टीपलचेज (बाधा दौड़) में नया विश्व रिकॉर्ड भी बनाया

दिल्ली पुलिस की पीटी उषा के नाम से जानी जाने वाली एएसआइ ललिता माधवाल ने जुलाई में आयोजित विश्व पुलिस और फायर गेम्स में पांच स्वर्ण पदक (Gold Medal) और 1 सिल्वर मैडल जीता हैं. ललिता माधवाल ने 2000 मीटर स्टीपलचेज (बाधा दौड़) में नया विश्व रिकॉर्ड भी बनाया. उन्होंने 800 मीटर, 1500 मीटर, 5000 मीटर और 10000 मीटर दौड़ में प्रथम स्थान हासिल किया, साथ ही 2000 मीटर स्टीपलचेज में एक नया विश्व रिकार्ड बनाते हुए स्वर्ण जीता और 400 मीटर की रिले दौड़ में सिल्वर मेडल जीता. इस तरह 5 गोल्ड और एक सिल्वर मेडल जीतकर भारतीय पुलिस के साथ देश का परचम लहराया. उन्होंने जो मुकाम हासिल किया वो दिल्ली पुलिस के इतिहास में कोई नहीं कर पाया और वो भी उस उम्र में जब खेल को लोग अलविदा कह देते हैं. 

ललिता मड़वाल ने बताया कि वो हर रोज सुबह 3:30 बजे उठकर रनिंग करती हैं,ललिता की 17 साल की बेटी बैडमिंटन खेलती है ,ललिता चाहती हैं कि उनकी बेटी एक दिन खेल की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाये. बता दें, ललिता के 17 साल की एक बेटी है. उनहोने बताया कि पुलिस की नौकरी और बेटी को पालने के साथ ये सफर आसान नहीं था. लेकिन ललिता के पति रेलवे में प्रोटोकॉल अफसर होने के साथ एक स्पोर्टमैन हैं उन्होंने हर कदम पर ललिता का साथ दिया. फिलहाल ललिता राष्ट्रपति भवन में पोस्टिड है.