19 हजार फीट की ऊंचाई पर इंटरनेट के जरिए सीमा की चौकसी और मुस्तैदी - SHUBHNEWS
28/11/2022

SHUBHNEWS

NEWS JO SHUBH HO

Border vigilance and promptness through internet

Border vigilance and promptness through internet

19 हजार फीट की ऊंचाई पर इंटरनेट के जरिए सीमा की चौकसी और मुस्तैदी

Spread the love

-Border vigilance and promptness through internet at an altitude of 19 thousand feet-
अब दुनिया के सबसे ऊंचे और दुर्गम युद्धक्षेत्र में भी इंटरनेट की सुविधा मिलेगी।
भारतीय सेना की फायर एंड फ्यूरी कोर द्वारा दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर पर 19,061 फीट पर सियाचिन सिग.तापमान शून्य से 60 डिग्री सेल्सियस तक जाने वाला इलाका। लेकिन बावजूद भारतीय सैनिक यहां ना केवल डटे हुए हैं बल्कि पूरे दमख.फायर एंड फ्यूरी कोर के पास सियाचिन की भी जिम्मेदारी है जो पिछले तीन दशक से अधिक समय से दुनिया का सबसे अधिक ऊंचाई पर . 1984 से यहां भारतीय सैनिक लगातार डटे हुए हैं। इसके एक तरफ पाकिस्तान तो दूसरी तरफ अक्साई चीन है।
भारतीय सेना ( Indian Army) ने 18 सितंबर को दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन भारतीय सेना का कमाल! अब दुनिया के सबसे दुर्गम युद्धक्षेत्र Siachen में मिलेगी इंटरनेट सियाचिन ग्लेशियर…यानि दुनिया का सबसे ऊंचा बैटल फिल्ड।खबर है कि अब से यहां भी इंटरनेट की सुविधा मिलेगी।

अब भारतीय सेना ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए यहां सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवा शुरू कर दी है इस कार्य को भारतीय थल सेना के फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स ने किया है जो इस युद्धक्षेत्र के सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालती है। इस सेवा के शुरू होने से आपातकालीन स्थिति में सियाचिन ग्लेशियर पर तैनात भारतीय सेना के जवान मुख्यालय में सूचना दे पाएंगे
भारतीय रक्षा उद्योग को आपातकालीन खरीद के लिए महत्वपूर्ण रक्षा उपकरणों की पेशकश करने के लिए आमंत्रित किया इसके लिए बंदूकें, मिसाइल, ड्रोन, काउंटर-ड्रोन, लोइटर एम्युनिशन, संचार और ऑप्टिकल सिस्टम, विशेषज्ञ वाहन, इंजीनियरिंग उपकरण और वैकल्पिक ऊर्जा संसाधनों के लिए प्रस्ताव रखे गए हैं।